Tag: अंतरात्मा में राम की भक्ति ही हनुमान का रूप है राम का इतिहास सनातन और अप्रमेय है जिसके प्रमाण की आवश्यकता नहीं होती है यह हर काल में मौजूद था और रहेगा।