0 Comments

सचेतन 252: शिवपुराण- वायवीय संहिता – आनंदमय कोष तक स्पर्श करने के लिए शरीर के तीनों आयाम का योग आवश्यक है

आप स्वभाव से ही आनंदित हो सकते हैं। आनंदमय कोष या  करण-शरीर हमारे अनुभव को आनंदमय बनाता है लेकिन आपको प्रसन्नता से निर्मित स्व को समझना होगा!  उदाहरण के लिए, यदि आप चीनी के बारे में बात कर रहे हैं, तो आप कहते हैं कि वह मीठी है। मिठास चीनी का स्वभाव नहीं है। मिठास…