Tag: आपके कार्य में उत्कृष्टता स्वाभाविक होनी चाहिये। हनुमान्जी की पिंगल नेत्र चन्द्रमा और सूर्यके समान प्रकाशित होती है।