0 Comments

सचेतन 235: शिवपुराण- वायवीय संहिता – भगवान शिव की परीक्षा

शिव भक्त उपमन्यु अपने तप के दौरान “नमः शिवाय” मंत्र का उच्चारण करते रहे। उपमन्यु अपनी माँ से प्राप्त पंचाक्षर मंत्र का ज्ञान और आज्ञा को ग्रहण करके अपनी आपत्तियों के निवारण हेतु तपस्या के लिए विदा हो गये। जाते समय उस महातेजस्वी उपमन्यु बालक ने कहा – ‘माँ ! चिंता न करो अगर माता…