0 Comments

सचेतन 238: शिवपुराण- वायवीय संहिता – शिव आपके प्राकृतिक गुण में हैं 

आप शिव तक कैसे पहुँच पाएंगे?  यह प्रमाणिकता है की हम सभी जितने भी प्रकार की सिद्धियां जीवन में पाना चाहते  हैं, वे शिवलिंग की स्थापना करने से तत्काल पा सकते हैं। जब हम ‘शिव’ कहते हैं तो इसका अर्थ है शून्य, यानी ‘शिव’ का शाब्दिक अर्थ है- ‘जो नहीं है’। लिंग से तात्पर्य है…