Tag: हर कार्य में लक्ष्य और विकल्प दोनों होना चाहिए हनुमान जी के लक्ष्य में विकल्प था की मैं लंकापुरी जाऊँगा यदि लंका में जनकनन्दिनी सीता को नहीं देखूँगा तो राक्षसराज रावण को बाँधकर लाऊँगा।