सचेतन 252: शिवपुराण- वायवीय संहिता – आनंदमय कोष तक स्पर्श करने के लिए शरीर के तीनों आयाम का योग आवश्यक है

आप स्वभाव से ही आनंदित हो सकते हैं।

आनंदमय कोष या  करण-शरीर हमारे अनुभव को आनंदमय बनाता है लेकिन आपको प्रसन्नता से निर्मित स्व को समझना होगा! 

उदाहरण के लिए, यदि आप चीनी के बारे में बात कर रहे हैं, तो आप कहते हैं कि वह मीठी है। मिठास चीनी का स्वभाव नहीं है। मिठास वह अनुभव है, जो वह आपके भीतर उत्पन्न करती है। जब आप उसे अपने मुंह में रखते हैं, तो आपको उसका स्वाद मीठा लगता है, इसलिए आप उसे मीठा कहते हैं। ठीक इसी तरह, आनंद हमारी सबसे अंदरूनी परत का स्वभाव नहीं है। 

वह शारीरिक नहीं है, जो भी चीज शरीर की सीमा से आगे है, हम उसकी व्याख्या या वर्णन नहीं कर सकते, इसलिए हम बच्चे की भाषा में बोलते है। मान लीजिए यहां एक स्पीकर सिस्टम है, और एक बच्चा आकर उसे छूता है। वह नहीं जानता कि वह क्या चीज है, इसलिए वह कहता है, “बूम बूम बूम”। अमेरिका में उसे बूम बॉक्स कहते हैं। यह एक बच्चे की भाषा है। इसी तरह, इसे आनंदमय शरीर कहना बच्चे की भाषा है। हम उसके बारे में बात करते समय उसकी प्रकृति की नहीं, अपने अनुभव की बात करते हैं।

आनंदमय कोष को स्पर्श करने के लिए तीनों शरीर को संरेखित करना चाहिए। अगर शरीर के तीन आयाम यानी आपका कारण शरीर, सूक्ष्म शरीर और स्थूल या भौतिक शरीर जब तक एक सीध में नहीं होंगे तब तक आप कभी इस अंतरतम को स्पर्श नहीं कर सकते। 

जिस तरह फल में बीज होता है उसी प्रकार कारण शरीर केवल सूक्ष्म शरीर और स्थूल शरीर का बीज है। यह निर्विकल्प रूपम है, “अविभाजित रूप”। यह जीव की धारणा को जन्म देने के बजाय, आत्मा की वास्तविक पहचान के अविद्या, “अज्ञान” या “अज्ञानता” से उत्पन्न होता है।

कारण शरीर को तीनों शरीरों में सबसे जटिल माना जाता है। इसमें अनुभव की छाप होती है, जो पिछले अनुभव से उत्पन्न होती है।

दूसरा है सूक्ष्म शरीर जो मन और आपकी महत्वपूर्ण ऊर्जा का शरीर है, यह आपके  भौतिक शरीर को जीवित रखता है। सूक्ष्म शरीर या आपका मन कारण शरीर के साथ यह देहांतरण करने वाली आत्मा या जीव है, यह एक साधन है जो आपको आनंदमय कोष तक ले जाता है। और जब आपका अस्तित्व सामप्त यानी मृत्यु होते ही स्थूल शरीर से अलग हो जाता है।

सूक्ष्म शरीर प्रायः आपकी “स्वप्न अवस्था” यानी एक विशिष्ट अवस्था है, जहाँ जाग्रत अवस्था में किए गए कर्मों की स्मृति के कारण बुद्धि स्वयं चमकती है। यह व्यक्तिगत स्वयं की सभी गतिविधियों का अनिवार्य ऑपरेटिव कारण है।

और तीसरा है स्थूल शरीर जो भौतिक या नश्वर शरीर है जो खाता है, सांस लेता है और चलता है (कार्य करता है)। यह कई विविध घटकों से बना है, जो पिछले जीवन में किसी के कर्मों (क्रियाओं) से उत्पन्न होते हैं, जो उन तत्वों से उत्पन्न होते हैं, जो पंचीकरण से गुजरे हैं, अर्थात पाँच मूल सूक्ष्म तत्वों का संयोजन।

 स्थूल शरीर हरेक जीव के अनुभव का साधन है, जो शरीर से जुड़ा हुआ है और अहंकार से प्रभावित है, शरीर के बाहरी और आंतरिक इंद्रियों और क्रिया का उपयोग करता है। जीव जाग्रत अवस्था में शरीर के साथ अपनी पहचान बनाकर स्थूल वस्तुओं का आनंद लेता है। इसके शरीर पर बाहरी दुनिया के साथ मनुष्य का संपर्क टिका हुआ है।

योग इन तीनों को सीध में लाना होता है ताकि आप अंतरतम तक पहुंच सकें। एक बार आनंदमय कोष या  करण-शरीर को स्पर्श करने के बाद, आप स्वभाव से ही आनंदित हो जाएंगे।

अगर शरीर के तीन स्थूल या भौतिक आयाम सीध में नहीं हैं, तो आप कभी इस अंतरतम को स्पर्श नहीं कर सकते। योग इन तीनों को सीध में लाना है ताकि आप अंतरतम तक पहुंच सकें।

आनंदित होना पूरी तरह स्वाभाविक हो जाता है। आप अपनी जिन्दगी के हर क्षण में उत्साहित और आनंदित हो सकते हैं।

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *