सचेतन 105   : श्री शिव पुराण- शतरुद्र संहिता-  शरीर, वाणी और मन से की गयी क्रिया कर्म है

SACHETAN  > Uncategorized >  सचेतन 105   : श्री शिव पुराण- शतरुद्र संहिता-  शरीर, वाणी और मन से की गयी क्रिया कर्म है

सचेतन 105   : श्री शिव पुराण- शतरुद्र संहिता-  शरीर, वाणी और मन से की गयी क्रिया कर्म है

| | 0 Comments

“कर्म” का शाब्दिक अर्थ है “काम” या “क्रिया” और मोटे तौर पर यह निमित्त और परिणाम तथा क्रिया और प्रतिक्रिया कर्म कहलाता है। हिंदू मान्यता के अनुसार कर्म हमारी चेतना को नियंत्रित करता है।कर्म भाग्य नहीं है। आदमी मुक्त होकर कर्म करता जाए, इससे उसके भाग्य की रचना होती रहेगी। वेदों के अनुसार, यदि हम अच्छाई बोते हैं, हम अच्छाई काटेंगे, अगर हम बुराई बोते हैं, हम बुराई काटेंगे। संपूर्णता से  किया गया हमारा कार्य और इससे जुड़ी हुई प्रतिक्रियाएं का संबंध पिछले जन्म से भी होता है, ये सभी हमारे भविष्य को निर्धारित करते हैं। कर्म की विजय बौद्धिक कार्य और संयमित प्रतिक्रिया में निहित है। सभी कर्म तुरंत ही पलटकर वापस नहीं आते हैं। कुछ जमा होते हैं और इस जन्म या अन्य जन्म में अप्रत्याशित रूप से लौट कर आते हैं। हम चार तरीके से कर्म करते हैं:-

  1. विचारों के माध्यम से
  2. शब्दों के माध्यम से
  3. क्रियाओं के माध्यम से जो हम स्वयं करते हैं।
  4. क्रियाओं के माध्यम से जो हमारे निर्देश पर दूसरे करते है।

वह सब कुछ जो हमने कभी सोचा, कहा, किया या कारण बना; ठीक वैसा ही होता हैं जैसा कि हम उस समय सोचते हैं, बोलते हैं, करते हैं; यही कर्म हैं। 

कोई भी मनुष्य, किसी भी अवस्था में, क्षणमात्र भी कर्म किये बिना नहीं रह सकता। यानी हर क्षण (पल) मनुष्य कर्म कर रहा है। क्योंकि हम चार तरीके से कर्म करते हैं।

इसका मतलब यह है कि वह सब कुछ जो हमने सोचा, कहा, किया या कारण बने – यह कर्म हैं। यानी हमारा सोना, उठना, चलना, बोलना, खाना, कुछ करना सभी कर्म के अंतर्गत आते है।

“शरीर, वाणी और मन से की गयी क्रिया कर्म है।” मनस, वाचा, कार्मण तीन संस्कृत शब्द हैं। मनस शब्द का अर्थ होता है मन, वाचा का भाषण, और कार्मण का अर्थ कुछ काम करना होता है। कई भारतीय भाषाओं में, एक व्यक्ति से अपेक्षित स्थिरता का वर्णन करने के लिए ये तीन शब्द एक साथ प्रयोग में लाए जाते हैं। आदर्श वाक्य मनसा, वाचा, कर्मणा का अर्थ आमतौर पर यह लगाया जाता है कि व्यक्ति को उस स्थिति को प्राप्त करने का प्रयत्न करना चाहिए जहां उसके विचार, वाणी और कार्यों का आपसी संयोग हो।

मनस: “मन (बौद्धिक संचालन और भावनाओं के क्षेत्र के रूप में अपने व्यापकतम अर्थ में)”

वाचा: “भाषण, शब्द”

कार्मण: “कर्म से संबंधित या उस कारण होना”

“मैंने विचार, वचन और कर्म में बराह्मणों के साथ जो किया गया है, उसके परिणाम की तुलना में यह कष्ट मुझे कुछ भी नहीं लगता नहीं है (भले ही मैं तीरों की शय्या पर आसीन हूँ)।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *