सचेतन :86 श्री शिव पुराण- कामदेव ने ही शिव व पार्वती के बीच प्रेम बनाया था  

SACHETAN  > Uncategorized >  सचेतन :86 श्री शिव पुराण- कामदेव ने ही शिव व पार्वती के बीच प्रेम बनाया था  

सचेतन :86 श्री शिव पुराण- कामदेव ने ही शिव व पार्वती के बीच प्रेम बनाया था  

| | 0 Comments

#RudraSamhita   https://sachetan.org/

आम तौर पर दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में, जिस चीज को लोग दैवी या ईश्वरीय मानते हैं, उसे अच्छा ही दर्शाया जाता है। लेकिन अगर आप शिव पुराण को ध्यान से पढ़ें, तो आप शिव की पहचान अच्छे या बुरे के रूप में नहीं कर सकते। वह सब कुछ हैं – वह सबसे बदसूरत हैं, वह सबसे खूबसूरत भी हैं। वह सबसे अच्छे और सबसे बुरे हैं, वह सबसे अनुशासित भी हैं, मगर पियक्कड़ भी। उनकी पूजा देवता, दानव और दुनिया के हर तरह के प्राणी करते हैं। हमारी तथाकथित सभ्यता ने अपनी सुविधा के लिए इन हजम न होने वाली कहानियों को नष्ट भी किया, मगर शिव का सार दरअसल इसी में है।

जब राक्षस तारकासुर ने आतन्क मचा दिया था तब तारकासुर के वध के लिये देवताओं ने कामदेव से विनती की कि वह शिव व पार्वती मे प्रेम बना दे क्योकि तारकासुर को वह वरदान था कि केवल शिव व पार्वती का पुत्र ही तारकासुर का वध कर सकता है। तो कामदेव तथा देवी रति कैलाश पर्वत शिव का ध्यान भन्ग करने के लिये गये पर कामदेव का बाण लगने से शिव का ध्यान तो भन्ग हो गया पर शिव को बहुत क्रोध आ गया व शिव ने अपना तीसरा नेत्र खोल कर कामदेव को भस्म कर दिया,

रति को भी अपने पति की मृत्यु पर क्रोध आ गया तो रति ने पार्वती को श्राप दिया कि पार्वती के पेट से कोई भी पु्त्र जन्म नहीं लेगा। यह श्राप सुनकर पार्वती दुखी हो गयी व शिव ने पार्वती को समझाकर कि उसे दुखी नही होना चाहिये तथा शिव ने पार्वती से विवाह किया। जब देवताओं ने इस श्राप के बारे मे तथा कामदेव की मौत के बारे मे सुना तो वह बड़े व्याकुल हो गये तो देवो ने छल से तारकासुर को वरदान दिलाया कि तारकासुर का वध केवल शिव के पेट से जनमा पुत्र ही कर सकता है। फिर शिव ने कामदेव को ज़िन्दा किया तथा कार्तीकेय ने तारकासुर का वध किया।

कामवासना भी एक उपासना, साधना है। काम पूर्ति से दिमाग की गन्दगी निकलकर जिन्दगी सुधर जाती है। काम, जीवन के चार पुरुषार्थों (धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष) में से एक है।

प्रत्येक प्राणी के भीतर रागात्मक प्रवृत्ति की संज्ञा काम है। वैदिक दर्शन के अनुसार काम सृष्टि के पूर्व में जो एक अविभक्त तत्व था वह विश्वरचना के लिए दो विरोधी भावों में आ गया। इसी को भारतीय विश्वास में यों कहा जाता है कि आरंभ में प्रजापति अकेला था। उसका मन नहीं लगा। उसने अपने शरीर के दो भाग। वह आधे भाग से स्त्री और आधे भाग से पुरुष बन गया। तब उसने आनंद का अनुभव किया। स्त्री और पुरुष का युग्म संतति के लिए आवश्यक है और उनका पारस्परिक आकर्षण ही कामभाव का वास्तविक स्वरूप है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *