सचेतन 162 : श्री शिव पुराण- उमा संहिता- सत्य यानि सभी का कल्याण।

प्रत्येक निर्णय सत्य होने का दावा करता है।

सत्य इस संसार में बड़ी शक्ति और दृढ़ता है। सत्य के बारे में व्यवहारिक बात यह है कि सत्य परेशान हो सकता है किन्तु पराजित नहीं।भारत में कई सत्यवादी विभूतियाँ हुईं जिनकी दुहाई आज भी दी जाती हैं जैसे राजा हरिश्चन्द्र, सत्यवीर तेजाजी महाराज आदि। इन्होने अपने जीवन में यह संकल्प कर लिया था कि भले ही जो कुछ हो जाए वे सत्य की राह को नहीं छोड़ेंगे।

सत्य का शाब्दिक अर्थ होता है सते हितम् यानि सभी का कल्याण। इस कल्याण की भावना को हृदय में बसाकर ही व्यक्ति सत्य बोल सकता है। एक सत्यवादी व्यक्ति की पहचान यह है कि वह वर्तमान, भूत अथवा भविष्य के विषय में विचार किये बिना अपनी बात पर दृढ़ रहता है। मानव स्वभाव में सत्य के प्रति आगाध श्रद्धा एवं झूठ के प्रति घृणा वो के भाव आते हैं।

आप अपने प्रत्येक निर्णय और अनुमान पर विचार करते हैं। इनमें निर्णय का स्थान केंद्रीय है। निर्णय का शाब्दिक प्रकाशन वाक्य है। जब हम किसी वाक्य को सुनते हैं, तो उसे स्वीकार करते हैं या अस्वीकार करते हैं; स्वीकार और अस्वीकार में निश्चय न कर सकने की अवस्था संदेह कहलाती है। 

प्रत्येक निर्णय सत्य होने का दावा करता है। जब हम इसे स्वीकार करते हैं तो इसके दावे को सत्य मानते हैं; अस्वीकार करने में उसे असत्य कहते हैं। विश्वास हमारी साधारण मानसिक अवस्था है। जब किसी विश्वास में त्रुटि दिखाई देती है, तो इस स्थान पर किसी अन्य विश्वास तक जाने की मानसिक क्रिया ही चिंतन है। विश्वास, सत्य हो अथवा असत्य, क्रिया का आधार है, यही जीवन में इसे महत्वपूर्ण बनाता है। न्याय का काम निर्णय या वाक्य के सत्यासत्य की जाँच करना है; इसके लिए यह बात असंगत है कि कोई इसे वास्तव में सत्य मानता है या नहीं।

सत्य के संबंध में दो प्रश्न विचार के योग्य हैं – 

पहला किसी निर्णय या वाक्य को सत्य कहने में हमारा अभिप्राय क्या होता है?

सत्य और असत्य में भेद करने का मापक साधन क्या है? 

हमारे ज्ञान के विषयों में प्रमुख ये हैं – हमारी अपनी चेतना अवस्थाएँ, प्राकृतिक पदार्थ, तथा चेतना के अन्य केंद्र, या दूसरों के मन।

मैं कहता हूँ कि मुझे दांत में दर्द हो रहा है। इसका अर्थ क्या है? मेरा अनुभव एक धारा है जिसमें निरंतर गति होती रहती है। मैं कहता हूँ कि धारा का जो भाग वर्तमान में ज्ञात है, दु:ख की अनुभूति उसमें प्रमुख पक्ष है। मेरे लिए यह स्पष्ट अनुभव है और मैं इसमें संदेह कर ही नहीं सकता। मेरे लिए इसे जाँचने को दूसरा मापक न है, न हो सकता है। स्पष्ट बोध से अधिक अधिकार किसी अन्य अनुभव का नहीं।

सामान्यतया सत्य का अनुभव कैसा होता है ?

तुम अपने किसी भी अनुभव के जड़ में जाओगी तो पाओगी कि वहाँ पर डर, लोभ, ईर्ष्या, तुलना, अविद्या, अन्धकार यही बैठे हुए हैं।

वास्तव में यह न हों तो कोई अनुभव होता ही नहीं है। ये सब न हों तो जीव न चलेगा, न फिरेगा, हम जैसे हैं हमारा तो इंजन ही डर होता है। हमारे सारे अनुभव भय-जनित होते हैं।

मैंने अपने जीवन में इस बात को कई बार अनुभव किया है। कुछ समय पहले हमारे यहाँ एक अंकल आया करते थे। स्वभाव से वह बहुत विनम्र और हँसमुख थे। परन्तु वह जब भी घर आते घंटों तक घर में बैठ जाते थे। धीरे-धीरे उनका यह नित्यक्रम बनने लगा। माताजी व पिताजी को इस बात से बहुत कठिनाई होती। यदि वह किसी काम से बाहर जा रहे होते थे, तो उनके कारण अपना कार्य स्थगित करना पड़ता था। आखिर एक दिन मैं तंग आ गया। अंकल को उनकी गलती का अनुभव कराना आवश्यक था। माता-पिताजी उन्हें इसी बात का आभास कराते कि उनके आने से हमें किसी प्रकार की कठिनाई नहीं होती है। मैंने निर्णय लिया और अंकल को बहुत प्यार से कहा अंकल आपका आना हमें बहुत प्रिय है परन्तु कई बार आप ऐसे समय में आप आ जाते हैं कि हमारे काम रूक जाते हैं। पिताजी मेरे इस कथन पर आग बबुला हुए और उन्होंने मुझे थप्पड़ मार दिया। अंकल ने पापा को डांटा और बताया कि मैं तुम्हारे व्यवहार से बहुत दुखी हूँ। तुम्हारे बेटे ने सत्य कहा है। तुमने कभी मुझे ऐसा नहीं कहा। यदि तुम ऐसा कहते तो मैं बुरा मानने के स्थान पर प्रसन्न होता। अंकल ने मुझसे भी माफी माँगी और पिताजी को भी मुझसे माँफी माँगने को कहा। इसके बाद अंकल बराबर हमारे घर आते रहे परन्तु आने से पहले वह पिताजी को अवश्य उनके कार्यक्रम के बारे में पूछ लेते। इसलिए मैं कहता हूँ कि सत्य का मार्ग कठिन अवश्य है परन्तु इससे होने वाले लाभ भी कम नहीं है।


Posted

in

by

Tags:

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *