0 Comments

सचेतन 2.17: रामायण कथा: सुन्दरकाण्ड – पराक्रम की परीक्षा से स्वयं के शक्ति और ज्ञान का आकलन होता है

देवता, गन्धर्व, सिद्ध और महर्षियों ने हनुमान जी के बल और पराक्रम की परीक्षा सूर्यतुल्य तेजस्विनी नागमाता सुरसा के द्वारा लिया।  हनुमान जी मैंनाक पर्वत से सत्कार पा कहा – मैनाक मुझे भी आपसे मिलकर बड़ी प्रसन्नता हुई है मेरा आतिथ्य हो गया और महाबली वांशिरोमणि हनुमान ने अपने हाथ से मैंनाक का स्पर्श किया…