Tag: प्रत्युपकार करना धर्म है। सतयुग में पर्वतों के भी पंख होते थे