सचेतन 2.91 : रामायण कथा: सुन्दरकाण्ड – हनुमान जी ने चैत्यप्रसाद का विध्वंस किया

SACHETAN  > Uncategorized >  सचेतन 2.91 : रामायण कथा: सुन्दरकाण्ड – हनुमान जी ने चैत्यप्रसाद का विध्वंस किया

सचेतन 2.91 : रामायण कथा: सुन्दरकाण्ड – हनुमान जी ने चैत्यप्रसाद का विध्वंस किया

| | 0 Comments

नमस्ते और रामायण की रोमांचक गाथा में आपका स्वागत है। आज, हम हनुमान जी के एक और वीरतापूर्ण कारनामे के बारे में जानेंगे, जहाँ वे लंका के चैत्यप्रासाद को तहस-नहस करते हैं और उसके रक्षकों का वध करते हैं।

हनुमान जी ने लंका में प्रवेश किया था और रावण के अशोक वाटिका को तहस नहस कर राक्षसों को पराजित कर दिया था। लंका में अफरातफरी मची हुई थी, और हनुमान जी सीता माता को भगवान राम के आने का संदेश देकर वापसी की तैयारी कर रहे थे।

तब हनुमान जी का चैत्यप्रासाद नष्ट करने का निर्णय कैसे लिया – 

लेकिन जाने से पहले, हनुमान जी को ध्यान आया कि लंका में राक्षसों के कुलदेवता का स्थान, चैत्यप्रासाद, अभी भी अछूता है। यह सोचकर कि राक्षसों को और भी कठोर दंड मिलना चाहिए, हनुमान जी ने चैत्यप्रासाद को भी नष्ट करने का फैसला किया।

हनुमान जी की चढ़ाई और तेज हो गई – हनुमान जी मेरु पर्वत के शिखर की तरह ऊँचे चैत्यप्रासाद पर चढ़ गए। उनके शरीर से निकलने वाले तेज से पूरा प्रसाद जगमगा उठा, मानो एक दूसरा सूर्य उदय हो गया हो।

हनुमान जी द्वारा विध्वंस और गर्जना करते हुए – अपनी अद्भुत शक्ति का प्रदर्शन करते हुए, हनुमान जी ने चैत्यप्रासाद को तोड़ना शुरू कर दिया। प्रासाद की दीवारें धराशायी हो गईं, और पत्थर इधर-उधर बिखरने लगे। उनकी भयंकर गर्जना से चैत्यप्रासाद में रहने वाले राक्षस और पक्षी भयभीत होकर इधर-उधर भागने लगे।

हनुमान जी ने घोषणा किया-  

एक बार फिर हनुमान जी ने भगवान राम और सीता माता की जय का जयघोष किया। उन्होंने रावण को चेतावनी दी कि अगर सीता माता को वापस नहीं लौटाया गया तो वे पूरी लंका को तबाह कर देंगे।

चैत्यप्रासाद के रक्षकों का हमला शुरू होता है- 

हनुमान जी की दहाड़ से डरकर, चैत्यप्रासाद के रक्षक उन पर टूट पड़े। तलवारें, भाले, और गदाओं से लैस होकर राक्षसों ने हनुमान जी पर हमला कर दिया।

हनुमान जी की विजय होती है 

हनुमान जी अजेय थे। उन्होंने राक्षसों के सभी हथियार छीन लिए और उन्हें आसानी से मार गिराया। चैत्यप्रासाद के रक्षक हार गए और हनुमान जी विजयी हुए।

हनुमान जी का चैत्यप्रासाद का विध्वंस उनकी वीरता और रावण के प्रति उनकी दृढ़ता का प्रमाण है। यह रामायण की एक महत्वपूर्ण घटना है जो हनुमान जी के अटूट बल और भगवान राम के प्रति उनकी अडिग भक्ति को दर्शाती है।

हनुमान जी ने चैत्यप्रासाद को नष्ट कर दिया था और उसके रक्षकों को मार गिराया था। लंका में अफरातफरी मची हुई थी। राक्षस भयभीत थे और हनुमान जी के अद्भुत पराक्रम से कांप उठे थे।

धमाकों और चीखों की आवाज चरो ओर गूंजने लगा 

राक्षसों का हमला भी हनुमान जी पर पूरी ज़ोर शोर से शुरू था हनुमान जी लंका में आगे बढ़ रहे थे, तभी अचानक राक्षसों का एक विशाल झुंड उन पर टूट पड़ा। ये राक्षस भयंकर रूप के थे, जिनके हाथों में गदाएं, भाले, और तीर-कमान थे। राक्षसों ने हनुमान जी पर चारों तरफ से हमला कर दिया।

हनुमान जी का जवाबी हमला शुरू होता है- 

हनुमान जी को गुस्सा आ गया। उन्होंने राक्षसों का सामना करने के लिए अपना भयंकर रूप धारण कर लिया। उनकी आंखें लाल हो गईं, और उनका शरीर अथाह शक्ति से भर गया।

हनुमान जी ने चैत्यप्रासाद के एक विशाल स्तंभ को अपनी अद्भुत शक्ति से उखाड़ लिया। यह स्तंभ सैकड़ों धनुष लंबा और इतना मोटा था कि कई राक्षस मिलकर भी उसे हिला नहीं सकते थे। हनुमान जी ने इस विशाल स्तंभ को घुमाना शुरू कर दिया। जैसे ही स्तंभ घूमने लगा, उससे भयंकर आग निकलने लगी। यह आग तेजी से फैलने लगी और पूरे चैत्यप्रासाद को अपनी चपेट में ले लिया।

हनुमान जी के गर्जने और स्तंभ के घूमने की आवाज चरो ओर फैल गया और हनुमान जी रावण को चेतावनी देते हैं – 

राक्षसों को मार गिराने के बाद, हनुमान जी आकाश में खड़े हो गए। उनका शरीर तेज से चमक रहा था, मानो सूर्य देव स्वयं खड़े हों। हनुमान जी ने गगनभेदी स्वर में रावण को चुनौती दी।

हनुमान जी (गंभीर स्वर में):  “राक्षसो! सुनो! सुग्रीव के आदेशानुसार हजारों वानर योद्धा लंका पर हमला करने के लिए तैयार हैं। ये वानर अजेय हैं, जिनके पास अद्भुत शक्ति है। कुछ वानरों में दस हाथियों के बराबर बल है, तो कुछ में सौ हाथियों के बराबर। कुछ वानर एक हजार हाथियों के समान बलशाली हैं। इन वानरों के नख और दाँत ही भयंकर हथियार हैं। ये वानर तुम्हारे सभी राक्षसों का नाश कर देंगे।”

हनुमान जी (क्रोधित स्वर में):  “हे रावण! तुमने इक्ष्वाकु वंश के महान वीर श्रीराम से दुश्मनी मोल ली है। अब तुम्हारा अंत निश्चित है। हनुमान जी की चेतावनी ने लंका में भय का माहौल बना दिया। रावण समझ गया कि हनुमान जी और वानर सेना कोई साधारण शत्रु नहीं हैं। हनुमान जी का यह वीरतापूर्ण कार्य रामायण की एक महत्वपूर्ण घटना है जो उनकी शक्ति, साहस, और रावण के प्रति दृढ़ता का प्रमाण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *